बहन-भाईयों के लिए बेहद खास होता है, भैया दूज का पर्व


कासगंज। दिवाली के दो दिन बाद यानी गोवर्धन पूजा के अगले दिन भाईदूज का पर्व मनाया जाता है। भैयादूज को भाई टीका, यम द्वितीया, भ्रातृ द्वितीया आदि भी कहा जाता है। पंचांग के अनुसार भाईदूज का पर्व कार्तिक मास में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। इस वर्ष भाई दूज का यह पर्व 16 नवंबर 2020 (कल) मनाया जाएगा। इस दिन ही दीपोत्सव का समापन हो जाता है। 

यह त्यौहार भाई-बहन के लिए बेहद ही खास होता है। रक्षाबंधन की तरह भाईदूज का महत्व भी बहुत ज्यादा होता है। इस दिन बहनें भाइयों को सूखा नारियल देती हैं। साथ ही उनकी सुख-समृद्धि व खुशहाली की कामना करती हैं। शूकर क्षेत्र सोरों के युवा ज्योतिषी पं. गौरव दीक्षित ने इस वर्ष भाई दूज का शुभ मुहूर्त और क्यों मनाया जाता है, इसकी जानकारी हिन्दुस्थान समाचार से साझा की।

भाई दूज का शुभ मुहूर्त

इसे कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। इस पर्व के शुभ मुहूर्त की बात करें तो भाई दूज के तिलक का समय सोमवार दोपहर 1 बजकर 10 मिनट से लेकर दोपहर three बजकर 18 मिनट तक रहेगा। 

क्यों मनाया जाता है भाई दूज

पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान सूर्य नारायण की पत्नी का नाम छाया था, उनकी कोख से यमराज तथा यमुना का जन्म हुआ था। यमुना यमराज से बड़ा स्नेह करती थी। वह उससे बराबर निवेदन करती कि इष्ट मित्रों सहित उसके घर आकर भोजन करो। अपने कार्य में व्यस्त यमराज बात को टालता रहा। कार्तिक शुक्ल का दिन आया। यमुना ने उस दिन फिर यमराज को भोजन के लिए निमंत्रण देकर उसे अपने घर आने के लिए वचनबद्ध कर लिया।

यमराज ने सोचा कि मैं तो प्राणों को हरने वाला हूँ मुझे कोई भी अपने घर नहीं बुलाना चाहता। बहन जिस सद्भावना से मुझे बुला रही है, उसका पालन करना मेरा धर्म है। बहन के घर आते समय यमराज ने नरक निवास करने वाले जीवों को मुक्त कर दिया। यमराज को अपने घर आया देखकर यमुना की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उसने स्नान कर पूजन करके व्यंजन परोसकर भोजन कराया। यमुना द्वारा किए गए आतिथ्य से यमराज ने प्रसन्न होकर बहन को वर मांगने का आदेश दिया। 

यमुना ने कहा कि भद्र आप प्रति वर्ष इसी दिन मेरे घर आया करो। मेरी तरह जो बहन इस दिन अपने भाई को आदर सत्कार करके टीका करें, उसे तुम्हारा भय न रहे। यमराज ने तथास्तु कहकर यमुना को अमूल्य वस्त्राभूषण देकर यमलोक की राह की। इसी दिन से पर्व की परम्परा बनी। ऐसी मान्यता है कि जो आतिथ्य स्वीकार करते हैं उन्हें यम का भय नहीं रहता। इसीलिए भैयादूज को यमराज तथा यमुना का पूजन किया जाता है। 

यह खबर भी पढ़े: पेट्रोल-डीजल के दाम में नहीं कोई परिवर्तन, जानें अपने शहर की कीमत

.(tagsToTranslate)कासगंज(t)यूपी(t)भाई दूज का पर्व(t)भाई-बहन के लिए खास पर्व(t)kasganj(t)up(t)pageant of bhai dooj(t)particular pageant for siblings


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *