यहां दिखती है शिव की शक्ति और गंगा की भक्ति की अनूठी तस्वीर


रामगढ़। रामगढ़ में एक मंदिर ऐसा भी है जहां भगवान शंकर के शिवलिंग पर जलाभिषेक कोई और नहीं स्वयं मां गंगा करती है। जिला मुख्यालय से महज eight किलोमीटर की दूरी पर स्थित टूटी झरना मंदिर की खासियत यह है कि यहां जलाभिषेक पूरे 12 महीने और 24 घंटे होता है। कई दशकों से यह प्रक्रिया निरंतर जारी है। भक्त मानते हैं कि यहां सच्चे दिल से मांगी गई मन्नत सदैव पूरी होती है। 

रेल पटरी बिछाने के दौरान हुई खुदाई में मिला था मंदिर

मंदिर का इतिहास सन 1925 से जुड़ा है। कहते हैं अंग्रेज इस इलाके में रेलवे लाइन बिछाने का काम कर रहे थे। पानी के लिए खुदाई के दौरान उन्हें जमीन के अंदर कुछ गुंबद नुमा चीज दिखाई पड़ी। लोगों को यह देखकर काफी आश्चर्य हुआ। पूरी खुदाई के बाद भगवान शिव का यह मंदिर लोगों के सामने लाया गया। मंदिर के अंदर भगवान भोलेनाथ का शिवलिंग मिला और उसके ठीक ऊपर मां गंगा के सफेद रंग की प्रतिमा मिली। प्रतिमा के नाभि से जल निकल रहा था जो उनकी हथेली से गुजरते हुए शिवलिंग पर गिर रहा था। 

किसी को भी नहीं पता जल का स्रोत

मंदिर के अंदर गंगा की प्रतिमा से स्वत: पानी निकलता रहता है। आज तक किसी को नहीं पता चला कि उस जल का स्रोत क्या है। यही रहस्य श्रद्धालुओं और पर्यटकों को यहां खींच लाता है। मंदिर में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। लोग दूर-दूर से यहां पूजा करने आते हैं। भक्त शिवलिंग पर गिरने वाले जल को प्रसाद के रूप में ग्रहण करते हैं। 

यह खबर भी पढ़े: kisan andolan: अगले दौर की वार्ता से पहले किसानों का शक्ति प्रदर्शन, 60 हजार ट्रैक्टर के साथ निकाली रैली, सरकार से कल होगी बातचीत

यह खबर भी पढ़े: 21 की उम्र से पहले सार्वजनिक जगह पर धूम्रपान करने पर देना होगा जुर्माना, खुली सिगरेटों की बिक्री पर प्रतिबंध और…

.(tagsToTranslate)रामगढ़(t)टूटी झरना मंदिर(t)शिव की शक्ति और गंगा की भक्ति(t)शिवलिंग पर जलाभिषेक(t)रेल पटरी बिछाने(t)ramgarh(t)damaged waterfall temple(t)shivas energy and devotion to ganga(t)jalabhishek on shivling(t)laying of railway tracks


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *