Astra Mark 2 Missile India ready a harmful missile, many occasions extra lethal than overseas missile…


नई दिल्ली: पड़ोसी मुल्क चीन (China) और पाकिस्तान (Pakistan) के साथ सीमा पर सख्त माहौल के बीच भारत एक ऐसी मिसाइल (Missile) विकसित कर रहा है, जिससे भारतीय वायुसेना (Indian Air Pressure) के विमान दुश्मन के विमान को हवा में 160 किलोमीटर दूर ही मार गिराएंगे. इस मिसाइल का नाम है बेयॉन्ड विजुअल रेंज एयर-टू-एयर मिसाइल अस्त्र (Past Visible Vary Air-to-Air Missile ASTRA). इस मिसाइल की विशेषता आपको कर हैरान कर देगी. इसकी रेंज, गति और दुश्मन को संभलने का मौका न देना इसकी सबसे बड़ी खासियत है.

घातक है अस्त्र मार्क-2

गौरतलब है कि इस अस्त्र मार्क-2 (Astra Mark 2 Missile) का परीक्षण इस साल सितंबर में शुरू होगा और अगले साल तक खत्म हो जाएगा. इस मिसाइल की सबसे बड़ी विशेषता इसकी गति है. यह 4.5 मैक यानी 5556.2 किलोमीटर की गति से हमला करता है. मतलब एक सेकेंड में 1.54 किलोमीटर की स्पीड है इस मिसाइल की. आपको बता दें कि यह मिसाइल 2022 तक पूरी तरह से विकसित हो जाएगी.

ये भी पढ़ें- New solar system: वैज्ञानिकों की जगी उम्मीद, Teenage Sun दे सकते हैं पृथ्वी और सौरमंडल के इतिहास की जानकारी

रिप्लेस हो जाएगी इजरायली मिसाइल 

अस्त्र मार्क-2 (Astra Mark 2 Missile) को स्वदेशी फाइटर जेट LCA तेजस में लगाए जाने की तैयारी की जा रही है. इसकी जेट में फिलहाल 100 किलोमीटर रेंज तक की मिसाइलें लगी हैं. आपको बता दें कि अभी इजरायल की मिसाइल का आयात किया जाता है. इस मिसाइल के लगने के बाद तेजस से इजरायली मिसाइल को हटा दिया जाएगा.

288 अस्त्र मार्क-1 के ऐडवांस ऑर्डर

इसकी खासियत को देखते हुए भारतीय वायुसेना और नौसेना ने 288 अस्त्र मार्क-1 (Astra Mark 1 Missile) के ऑर्डर दिए हुए हैं. इस मिसाइल का उपयोग रूस में बने भारतीय फाइटर जेट सुखोई-30 एमकेआई (Su-30MKI) में किया जा रहा है. और सबसे खास बात कि अस्त्र मिसाइल 2 बनने के बाद भारत उन देशों की लिस्ट में शामिल हो जाएगा जो इस तरह की मिसाइलें बनाते हैं. ये देश हैं अमेरिका, रूस, फ्रांस और इजरायल.

ये भी पढ़ें- Deep Space Food Challenge: NASA का चैलेंज! अंतरिक्ष में भोजन उत्पादन के नए Unique idea दें और पाएं 5 लाख डॉलर

सुपरसोनिक के साथ लैस होकर ज्यादा घातक

अस्त्र मार्क-2 (Astra Mark 2 Missile) मिसाइल सुपरसोनिक फाइटर जेट्स के साथ लैस होने पर और ज्यादा घातक सिद्ध होगी. लंबी दूरी के काउंटर मेजर्स मिशन में दुश्मन के छक्के छुड़ा देगी. अस्त्र मार्क-2 (Astra Mark 2 Missile) में अत्याधुनिक इलेक्ट्रॉनिक काउंटर-काउंटर मेजर्स (ECCM) तकनीक लगाई गई है. ताकि ये दुश्मन के फाइटर जेट के संचार को बाधित कर दे. जब तक वह संभले तब तक उसका काम तमाम.

दुश्मन का करती है पीछा 

अस्त्र मार्क-2 (Astra Mark 2 Missile) की एक विशेषता ये भी है कि ये पीछा करके मारती है. यानी एक बार दुश्मन का विमान टारगेट पर लॉक हुआ तो ये सामने से या पीछे से दौड़ा-दौड़ा कर मार डालेगी. बता दें कि इस मिसाइल के पुराने वर्जन यानी अस्त्र मार्क-1 का उपयोग भारतीय वायुसेना मिग-29, मिग-29के, मिराज 2000, सुखोई-30 एमकेआई और तेजस एमके1/1A में कर रही है.

ये भी पढ़ें- Farfarout Planetoid: खगोलविदों ने खोजा सौरमंडल में सबसे दूर का पिंड ‘Farfarout’, जानिए क्या है इसकी खासियत

भारत की अन्य मिसाइल अंडर डेवलपमेंट

भविष्य में अस्त्र मार्क-2 (Astra Mark 2 Missile) का उपयोग LCA तेजस एमके-2, एमसीए और TEDBF में भी किया जाएगा. इसके बाद डीआरडीओ अस्त्र मार्क-3 (Astra Mark Three Missile) बनाने की तैयारी में है. ये मिसाइल अभी अंडर डेवलपमेंट है.

350 किलोमीटर रेंज 

डिफेंस मंत्रालय के अनुसार, अस्त्र मार्क-3 (Astra Mark Three Missile) 350 किलोमीटर रेंज की होगी. अस्त्र मिसाइलें 20 किलोमीटर की ऊंचाई पर उड़ सकती है. यानी जमीन से 66 हजार फीट की ऊंचाई पर भी दुश्मन के हमले को बर्बाद कर सकती हैं.

विज्ञान से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

LIVE TV

.(tagsToTranslate)Astra Mark 2(t)Astra Mark 2 Missile(t)Indian Missile(t)Science Information In Hindi(t)Most Harmful Missile(t)astra 2 missile(t)Astra 2 Missile Vary


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *