If Need To Make investments In Digital Gold Than You Ought to Know About The Technicalities


हाल के समय में डिजिटल गोल्ड में निवेश पहल की तुलना में कई गुणा बढ़ गया है क्योंकि लोगों को इसमें बेहतर रिटर्न मिल रहा है. गोल्ड में निवेश करने के वैसे तो कई विकल्प हैं लेकिन सबसे ज्यादा जो लोकप्रिय हो रहा है वो है डिजिटल गोल्ड. यह ज्वैलर्स या डीलर की तरफ से कई प्लेटफॉर्म के जरिए लोगों को बेचे जाते हैं. इनमें वॉलेट जैसे- पेटीएम, अमेजन पे और निवेश के प्लेटफॉर्म्स जैसे- कुवेरा, ग्रो और स्टोक ब्रोकर्स शामिल हैं.

वर्तमान में तीन कंपनियां डिजिटल गोल्ड ऑफर कर रही हैं, वो है- ऑगमोन्ट गोल्ड, एमएमटीसी-पंप इंडिया प्राइवेट इंडिया लिमिटेड (एमएमटीसी लिमिटेड और स्विस फर्म एमकेएस पंप का साझा उपक्रम), और डिजिटल गोल्ड इंडिया प्राइवेट लिमिटेड.

हालांकि, बड़ी आसानी से डिजिटल गोल्ड में निवेश किया जा सकता है. इसके जरिए ना सिर्फ आप इसकी शुद्धता को लेकर फर्जीवाड़े से बच जाते हैं बल्कि आपको ज्वैलर्स के पास पैसे लेकर जाने की आवश्यता नहीं पड़ती है. इसके अलावा, आप जब चाहे तो उस डिजिटल गोल्ड को वापस बेचकर पैसा भी ले सकते हैं.

लेकिन अगर आप इसमें निवेश करने जा रहे हैं तो इसके पेंच के बारे में जानना जरूरी है. दरअसल, जब आप डिजिटल गोल्ड खरीदते हैं तो आपको three फीसद जीएसटी (गुड्स एंड सर्विस टैक्स) देना पड़ता है. इतनी ही रकम आप अगर जाकर भी खरीदते हैं तब भी खर्च करना पड़ता है. यानी आपने अगर 1 हजार रुपये के डिजिटल गोल्ड की खरीददारी की है तो आपको 970 रुपये का ही सोना मिलेगा और बाकी जीएसटी के रूप में ले लिया जाएगा (यानी, यह खरीदने और बेचने की कीमत के बीच का  अंतर होता है).

लेकिन, यहां पर यह ध्यान रखने की बात है कि अगर आप सालभर बाद उस डिजिटल गोल्ड को वापस बेचने का मन बनाया है तो डिजिटल गोल्ड की उस वक्त जो भी कीमत रहेगा उसके ऊपर आपको three फीसदी का फिर से जीएसटी चुकाना पड़ेगा.

ये भी पढ़ें: Digital Gold: कैसे करें डिजिटल गोल्ड की खरीद? क्या हैं इसके नफा और नुकसान?

.(tagsToTranslate)Digital Gold(t)Gold(t)funding in Digital Gold(t)GST on Gold(t)GST on Digital Gold


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *