scientists involved over disappearance of supermassive black gap | Galaxy का महाविशाल Black Gap…


नई दिल्ली: ब्लैक होल (Black Gap) को लेकर जितनी जानकारी वैज्ञानिकों के पास है, उतने ही रहस्य भी हैं. फिलहाल वैज्ञानिक इन्हीं रहस्यों को सुलझाने में लगे हुए हैं. ऐसे में एक और सवाल ने वैज्ञानिकों (Scientists) को चिंता में डाल दिया है. दरअसल, अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (NASA) की चंद्र एक्स-रे ऑब्जर्वेटरी और हबल स्पेस टेलिस्कोप (Hubble Area Telescope) से ढूंढने के बावजूद एस्ट्रोनॉमर्स (Astronomers) को एक विशाल ब्लैक होल (Black Gap) मिल नहीं रहा है.

अपनी जगह से हट गया है ब्लैक होल

गैलेक्सी (Galaxy) के आधार पर इस ब्लैक होल (Black Gap) का वजन सूरज से लगभग 100 गुणा अरब ज्यादा है लेकिन वैज्ञानिकों को यह अपने स्थान पर मिल नहीं रहा है. धरती से 2.7 अरब प्रकाशवर्ष दूर (Gentle 12 months Away) गैलेक्सी क्लस्टर (Galaxy Cluster) Abell 2261 में यह विशाल ब्लैक होल होना चाहिए था. लेकिन वह अपनी जगह पर नहीं है.

यह भी पढ़ें- NASA Quiz: आपको इस तस्वीर में क्या नजर आ रहा है? NASA के इस सवाल का तुरंत दीजिए जवाब

हर गैलेक्सी में होता है ब्लैक होल

लगभग हर गैलेक्सी (Galaxy) के केंद्र में एक विशाल ब्लैक (Supermassive Black Gap) होल होता है, जिसका द्रव्यमान हमारे सूरज से करोड़ों-अरबों गुणा ज्यादा होता है. एस्ट्रोनॉमर्स (Astronomers) का मानना है कि इस गैलेक्सी में ब्रह्मांड (Universe) के सबसे विशाल ब्लैक होल में से एक होना चाहिए था.

चांद से 1999 और 2004 में मिले डाटा के आधार पर इसकी तलाश शुरू की गई थी. वे ऐसे मटीरियल डिटेक्ट कर रहे थे, जो ब्लैक होल में गिरने के कारण गर्म हो जाएं और एक्स-रे उत्सर्जन हो लेकिन ऐसा कुछ मिला नहीं.

यह भी पढ़ेंधरती के अलावा Mars पर भी हैं सुंदर घाटियां और पहाड़, NASA ने शेयर की तस्वीर

दो ब्लैक होल के विलय से बना नया ब्लैक होल

साल 2018 में यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन के केहेन गुल्टेकिन की टीम ने गैलेक्सी (Galaxy) के सेंटर में ब्लैक होल के पैदा होने की घटना पर नजर रखना शुरू किया. उन्होंने देखा कि दो गैलेक्सी (Galaxy) एक-दूसरे से मिलकर एक महाविशाल गैलेक्सी (Supermassive Galaxy) बना सकते हैं. जब ऐसी घटना होती है तो उससे गुरुत्वाकर्षण तरंगें (Gravitational Waves) पैदा होती हैं.

ये तरंगें किसी एक दिशा में हों तो ब्लैक होल केंद्र से दूर चला जाता है, जिसे रीकॉइलिंग ब्लैक होल (Recoiling Black Gap) कहते हैं.

यह भी पढ़ें- Amazon Rainforest: Research में हुआ खुलासा, 2064 तक खत्म हो सकता है दुनिया का सबसे बड़ा जंगल

स्पेस में रहस्यमयी तरीके से घूम रहा है ब्लैक होल

हाल ही में वैज्ञानिकों ने रीकॉइलिंग ब्लैक होल (Recoiling Black Gap) की खोज की थी. लेकिन वैज्ञानिक अभी तक इस रीकॉइलिंग ब्लैक होल के स्थान का पता नहीं लगा पाए हैं. कहा जा रहा है कि ये केंद्र से निकलने के बाद स्पेस में रहस्यमयी जगह में घूम रहा है. Abell 2261 गैलेक्सी में ऐसा ब्लैक होल होने की उम्मीद ज्यादा है.

हबल और सुबारु ऑप्टिकल ऑब्जर्वेशन में एक गैलेक्टिक कोर मिली है, जिसके अंदर एक खास जगह पर सितारों की संख्या बहुत ज्यादा है. ऐसा आमतौर पर इस गैलेक्सी के आकार के मुताबिक देखने को नहीं मिलता है.

विज्ञान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

VIDEO

.(tagsToTranslate)Black Gap(t)Galaxy(t)Recoiling Black Gap(t)Scientists(t)NASA(t)Astronomers(t)Galaxy Cluster Abell 2261(t)Science information


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *