Unnao Case: Third Woman situation steady in Kanpur Hospital – उन्नाव केस में अहम गवाह तीसरी लड़की की…


उन्नाव केस

खास बातें

  • अस्पताल के डॉक्टर ने कहा- लड़की की हालत अब स्थिर है
  • वेटिंलेटर सपोर्ट हटाए बिना कुछ भी पुख्ता तौर पर कहना संभव नहीं
  • लड़की पर इलाज का असर हो रहा है, वह हाथ-पैर हिलाने लगी है

उन्नाव में दो दलित लड़कियों (Unnao Dalit Ladies Demise) के संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के मामले में पुलिस ने गुरुवार को अज्ञात हमलावरों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया. इन्हीं के साथ मिली एक और लड़की को गंभीर हालत में कानपुर के अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जिसका हालत अब स्थिर बताई जा रही. उसका बयान बेहद अहम साबित हो सकता है. रिजेंसी अस्पताल के पीआरओ डॉ पराजीत अरोड़ा ने कहा कि बच्ची की हालत में थोड़ा सुधार है. उसकी हालत स्थिर है. डॉक्टर वेंटिलेटर सपोर्ट कम करने की कोशिश कर रहे हैं. लड़की हाथ-पैर हिला रही है, लेकिन जब तक वेंटिलेटर सपोर्ट पूरी तरह नहीं हट जाएगा, कुछ भी पुख्ता रूप से कहना संभव नहीं है. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने किंग जॉर्ज यूनिवर्सिटी के एक्सपर्ट डॉक्टर की टीम कानपुर के रिजेंसी अस्पताल भेजी है.

यह भी पढ़ें

बता दें कि डीजीपी के मुताबिक, पोस्टमार्टम रिपोर्ट (Postmortem Report) में मृत लड़कियों के शरीर पर कोई बाहरी चोट नहीं पाई गई है.पीड़िताओं के पिता ने कहा कि जब लड़कियों को खेत में पाया गया तो उनके गले में दुपट्टा था और उनके मुंह से सूखा झाग निकल रहा था. 

“दलित लड़कियों के शरीर पर कोई जख्म नहीं था”: DGP ने उन्नाव कांड में पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर दी जानकारी

Newsbeep

बच्चियों की भाभी का कहना है कि जब बहुत देर हो गयी और लड़कियां नहीं आईं तो उन्होंने घर के लोगों से कहा कि आज कितना चारा काट रही हैं कि तीन-चार घंटे से लौटीं ही नहीं. इनमें से एक बच्ची रौशनी के भाई का कहना है कि उन्हें जब बच्चियों के वापस नहीं आने की खबर मिली तो वह घर वालों के साथ उन्हें ढूंढने गए तो तीनों बेसुध एक खेत में आपस में बंधी हुई मिलीं.

घटना की सूचना पर बच्चियों को फौरन इलाके के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने बताया कि दो लड़कियों की मौत हो चुकी है, जबकि तीसरी ज़िंदा थी लेकिन उसकी हालत गंभीर होने की वजह से उसे बेहतर इलाज के लिए कानपुर रेफर किया गया है.

.(tagsToTranslate)Unnao(t)Unnao case(t)Yogi Adityanath(t)उन्नाव केस(t)दलित लड़कियों की मौत


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *